आपका समर्थन, हमारी शक्ति

मंगलवार, 27 जुलाई 2010

मासूम सूरत सहमी-सी

 
वह पैबंद लगी फ्राक पहने
लालीपाप ले जा रही थी,
मासूम सूरत सहमी-सी
बरबस पूछ लिया
बच्ची, क्या नाम है तुम्हारा
कहां रहती हो
जवाब देने के बजाय
उसने मांगने के लिए फैला दिये हाथ।

(कानपुर से अलका गुप्ता जी ने भेजा. उनकी यह कविता कादम्बिनी के नए पत्ते-स्तम्भ में प्रकाशित हो चुकी है.)
एक टिप्पणी भेजें