आपका समर्थन, हमारी शक्ति

सोमवार, 22 अप्रैल 2013

न्यू मीडिया 'हिंदी ब्लागिंग' के दस साल : प्रिंट मीडिया ने लिया हाथों-हाथ

न्यू मीडिया के रूप में तेजी से उभरी हिन्दी ब्लागिंग के एक दशक पूरा होने पर प्रिंट मीडिया ने भी इसे हाथों-हाथ लिया। इलाहाबाद के तमाम पत्रकारों ने अन्य ब्लागर्स के साथ हम लोगों  से भी संपर्क किया और इस विधा के बारे में अपनी जानकारी में इजाफा करते हुए हिंदी ब्लागिंग के दस साल पूरे होने पर व्यापक और बेहतर कवरेज भी दी। इनमें 'शब्द-शिखर' के अलावा कृष्ण कुमार यादव जी के 'शब्द-सृजन की ओर' व 'डाकिया डाक लाया', अक्षिता के 'पाखी की दुनिया' के साथ-साथ हिंदी में ब्लागिंग कर रहे सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी, गौरव कृष्णा बंसल इत्यादि की भी चर्चा की गई है।

 सबसे रोचक तो यह रहा कि हिन्दी मीडिया के साथ-साथ इस अवसर को अंग्रेजी-मीडिया ने भी भरपूर स्थान दिया। टाइम्स आफ इण्डिया, हिंदुस्तान टाइम्स  जैसे प्रतिष्ठित अंग्रेजी समाचार पत्रों के अलावा नार्दर्न इण्डिया पत्रिका ने भी इस पर बखूबी कलम चलाई। इसे आप सभी लोगों के साथ शेयर कर रही हूँ।  


(जनसंदेश टाइम्स, ( वाराणसी संस्करण)22 अप्रैल 2013)

(दैनिक जागरण , 21 अप्रैल 2013)


(जनसंदेश टाइम्स, 21 अप्रैल 2013)



(i next, 21 अप्रैल 2013)


(Times of India, 22nd April 2013)


(Hindustan Times, 22nd April 2013)

(Northern India patrika, 22nd April 2013)

एक टिप्पणी भेजें