आपका समर्थन, हमारी शक्ति

बुधवार, 9 सितंबर 2015

विश्व हिंदी सम्मेलन, भोपाल में हिंदी जगत के विस्तार और संभावनाओं पर होगा मंथन


भारत में 32 साल बाद फिर से विश्व हिन्दी सम्मेलन का आयोजन, 10-12  सितंबर को भोपाल में। वैश्विक मंच पर भारत की बढ़ती साख ने कई देशों को हिंदी जानने व समझने पर विवश कर दिया है। आज दुनिया के 150 से अधिक विश्वविद्यालयों में हिन्दी पढ़ाई जा रही है। 50 करोड़ से अधिक लोग हिंदी बोलते हैं और लगभग 80 करोड़ लोग इसे बखूबी समझते हैं।  इस सम्मेलन में लगभग 39  देशों के प्रतिनिधि  हिस्सा ले रहे हैं।


देश विदेश में हिन्दी के प्रचार प्रसार में अहम भूमिका निभाने वाले बॉलीवुड के सितारों से आम तौर पर परहेज करने वाले वि हिन्दी सम्मेलन में इस बार मशहूर अभिनेता अमिताभ बच्चन को न सिर्फ आमंत्रित किया गया है बल्कि वह अच्छी हिन्दी कैसे बोलें विषय पर व्याख्यान भी देंगे.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सम्मेलन के सफल होने की कामना करते हुए अपने शुभकामना संदेश में आशा प्रकट की कि इसमें भाग ले रहे विद्वान हिंदी के माध्यम से भारतीय संस्कृति के मूलमंत्र वसुधैव कुटुम्बकम की भावना को आगे बढ़ाएंगे और हिंदी जगत के विस्तार की संभावनाओं को चरम पर पंहुचाने के उपायों पर चर्चा करेंगे.

इस बार विश्व हिंदी सम्मेलन के महाकुंभ के दसवें पड़ाव को व्यापकता प्रदान करते हुए और इसकी परिधि का विस्तार करके मुख्य विषय ‘हिंदी जगत : विस्तार एवं संभावनाएं’ के साथ बारह विषयों पर विचार-विमर्श किया जाएगा. सम्मेलन में चर्चा के निर्धारित मुख्य विषय हैं : विदेश नीति में हिंदी, प्रशासन में हिंदी, विज्ञान में हिंदी, विधि एवं न्याय क्षेत्र में हिंदी और भारतीय भाषाएं, अन्य भाषा भाषी राज्यों में हिंदी और गिरमिटिया देशों में हिंदी आदि.

 विश्व हिंदी सम्मेलनों की परंपरा 1975 में नागपुर में आयोजित प्रथम विश्व हिंदी सम्मेलन से शुरू हुई. तब से इन सम्मेलनों ने एक वैश्विक स्वरूप और गति प्राप्त की. अब तक ऐसे नौ सम्मेलन विश्व के विभिन्न देशों में आयोजित किए जा चुके हैं. इससे पूर्व विश्व हिन्दी सम्मेलन दो-दो बार मॉरीशस और भारत में और एक-एक बार ट्रिनिदाद और टोबैगो, ब्रिटेन, सूरीनाम, अमेरिका और दक्षिण अफ्रीका में आयोजित हुए हैं. इन सम्मेलनों ने हमेशा से ही हिंदी स्नेही व्यक्तियों और प्रख्यात विद्वानों को आकर्षित किया है... फ़िलहाल, इस सम्मेलन पर सबकी निगाह लगी है कि आखिर मंथन से क्या निकलता है !!


एक टिप्पणी भेजें