आपका समर्थन, हमारी शक्ति

बुधवार, 23 मार्च 2016

हर रंग में प्यार अपार..

रंग - गुलाल से रंग दे तन - मन !
ऐसी होली हो मन - भावन !!


हर रंग में प्यार अपार।
रंगो का त्यौहार है होली
इसमें रंग हजार।
प्रेम का रंग है सबसे पक्का
कैसे भी न छूटे।
एक बार रंग जाय संग फिर
जीवन भर न टूटे।
तुम्हे मुबारक प्रेम रंग की
छैल छबीली होली।
खेलो रंग पिया से अपने
जी भर के करो ठिठोली।
हम सब की ओर से
मुबारक आप सभी को होली !!





रंग रंग राधा हुई, कान्हा हुए गुलाल
वृंदावन होली हुआ सखियाँ रचें धमाल
होली राधा श्याम की और न होली कोय
जो मन रांचे श्याम रंग, रंग चढ़े ना कोय
नंदग्राम की भीड़ में गुमे नंद के लाल
सारी माया एक है क्या मोहन क्या ग्वाल
आसमान टेसू हुआ धरती सब पुखराज
मन सारा केसर हुआ तन सारा ऋतुराज
बार बार का टोंकना बार बार मनुहार
धूम धुलेंडी गाँव भर आँगन भर त्योहार
फागुन बैठा देहरी कोठे चढ़ा गुलाल
होली टप्पा दादरा चैती सब चौपाल
सरसों पीली चूनरी उड़ी़ हवा के संग
नई धूप में खुल रहे मन के बाजूबंद
महानगर की व्यस्तता मौसम घोले भंग
इक दिन की आवारगी छुट्टी होली रंग
अंजुरी में भरपूर हों सदा रूप रस गंध
जीवन में अठखेलियाँ करता रहे बसंत।।।
...होली के पावन अवसर पर शुभकामनाएँ !!


होली वही जो  परिवार  को पास लाए,
होली  वही  जो  दोस्त  को साथ  लाए, 
होली  वही  जो  शत्रु को  मित्र  बनाए, 
होली  वही  जो  बुरी  आदतों  को  जलाए,
 होली  वही  जो सकारात्मक  विचार  लाए, 
होली  वही  जो  रंग  भी लगाए,  
होली वही  जो  पानी  भी  बचाए,
 होली  वही  जो  शिक्षा  का प्रकाश  फैलाए, 
होली  वही  जो  संकल्पों  की  याद  दिलाए, 
होली  वही  जो  मस्ती  में  रहकर  भी  
अपने  कर्तव्यों  का एहसास  दिलाए।
होली के पावन पर्व पर रंग भरी शुभकामनाये।

(ये सन्देश  वाट्सअप पर प्राप्त हुये, अच्छा लगा सो आप सभी के साथ शेयर कर रही हूँ)

रंगों के पर्व होली के शुभ अवसर पर आपको और आपके परिवार को हार्दिक शुभकामनाएँ !! 

एक टिप्पणी भेजें