आपका समर्थन, हमारी शक्ति

सोमवार, 31 अक्तूबर 2016

टॉप हिंदी ब्लॉग्स में शामिल हुआ 'शब्द-शिखर'

इंटरनेट पर हिंदी के व्यापक प्रचार-प्रसार और ब्लागिंग के माध्यम से देश-विदेश में अपनी रचनाधर्मिता को विस्तृत आयाम देने वाले ब्लॉगर दम्पति राजस्थान पश्चिमी क्षेत्र, जोधपुर  के निदेशक डाक सेवाएं कृष्ण कुमार यादव और उनकी पत्नी आकांक्षा  यादव के ब्लॉग क्रमश: "डाकिया डाक लाया" (http://dakbabu.blogspot.in/) और "शब्द-शिखर" (http://shabdshikhar.blogspot.in/) को  टॉप हिंदी ब्लॉग्स में शामिल किया गया है। वर्ष 2008 से ब्लॉगिंग में सक्रिय एवम  ''दशक के श्रेष्ठ हिंदी ब्लॉगर दम्पति'' और  सार्क देशों के सर्वोच्च ''परिकल्पना ब्लॉगिंग सार्क शिखर सम्मान'' से सम्मानित  दम्पति के दोनों ब्लॉगों को इंडियन टॉप ब्लॉग्स द्वारा 2015-16 के  लिए हाल ही में जारी हिंदी के सर्वश्रेष्ठ 130 ब्लॉगों की डायरेक्टरी में स्थान दिया गया है। गौरतलब है कि वर्तमान में हिंदी में एक लाख से ज्यादा ब्लॉग संचालित हैं।


डाक निदेशक कृष्ण कुमार यादव और उनकी पत्नी आकांक्षा यादव  नेपाल, भूटान और श्रीलंका सहित तमाम देशों में आयोजित अंतर्राष्ट्रीय ब्लॉगर्स सम्मेलन में सम्मानित हो चुके हैं। जर्मनी के बॉन शहर में होने वाले ग्लोबल मीडिया फोरम (2015) के दौरान 'पीपुल्स चॉइस अवॉर्ड' श्रेणी में  आकांक्षा यादव के ब्लॉग 'शब्द-शिखर'  को हिंदी के सबसे लोकप्रिय ब्लॉग के रूप में भी सम्मानित किया जा चुका है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव द्वारा वर्ष  2012 में इस दम्पति को  ”न्यू मीडिया एवं ब्लाॅगिंग” में उत्कृष्टता के लिए ''अवध सम्मान'' से भी विभूषित किया जा  चुका  है। सौ से ज्यादा देशों में देखे-पढ़े जाने वाले इनके ब्लॉग 'डाकिया डाक लाया' और 'शब्द-शिखर' पर अब तक 738 और 512 पोस्ट प्रकाशित हैं।


 ब्लॉगिंग के साथ-साथ कृष्ण कुमार यादव और आकांक्षा यादव साहित्य और लेखन में भी सक्रिय हैं।  विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होने के साथ-साथ,  अब तक श्री यादव की 7 पुस्तकें और नारी सम्बन्धी मुद्दों पर प्रखरता से लिखने वालीं आकांक्षा यादव की 3 पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं। देश-दुनिया में शताधिक सम्मानों से विभूषित यादव दम्पति एक लंबे समय से ब्लॉग और सोशल  मीडिया के माध्यम से हिंदी साहित्य एवं विविध विधाओं में अपनी रचनाधर्मिता को प्रस्फुटित करते हुये अपनी व्यापक पहचान बना चुके हैं।


                                         ***************************

Hindi-blog-directory

The 2015-16 edition of the Directory of Best Hindi Blogs has been released on 30th September 2016. It has 130 blogs, listed alphabetically [according to the operative part of the URL]. For more details on compilation etc, you can visit the post announcing the release of the Directory.

30 सितंबर 2016 को जारी हिन्दी के सर्वश्रेष्ठ ब्लॉगों की डायरेक्टरी का 2015-16 संस्करण आपके सामने प्रस्तुत है. इसमें 130 ब्लॉग हैं जिन्हें अंग्रेज़ी के अक्षरों के क्रम में लगाया गया है. संकलन आदि के बारे में अधिक जानकारी के लिए डायरेक्टरी विमोचन पर जारी की गई इस पोस्ट पर जाएं.

4yashoda मेरी धरोहर 
aajtak-patrika दीपक भारतदीप की हिन्दी एक्सप्रेस पत्रिका 
aarambha आरम्भ 
abchhodobhi अब छोड़ो भी 
akanksha-asha Akanksha 
akhtarkhanakela आपका-अख्तर खान "अकेला" 
amitaag Safarnaamaa... सफ़रनामा... 
anilpusadkar अमीर धरती गरीब लोग 
anitanihalani मन पाए विश्राम जहाँ 
anubhaw अनुभव 
anunad अनुनाद 
apnapanchoo अपना पंचू 
apninazarse अपनी नज़र से 
archanachaoji मेरे मन की 
artharthanshuman Arthaat 
ashaj45 स्वप्नरंजिता 
ashokbajajcg ग्राम चौपाल 
avojha मुक्ताकाश.... 
baatapani बात अपनी 
bal-kishore Bal-Kishore 
bamulahija Bamulahija 
banarahebanaras बना रहे बनारस 
bastarkiabhivyakti बस्तर की अभिव्यक्ति -जैसे कोई झरना... 
batangad बतंगड़ BATANGAD 
bhadas भड़ास blog 
bhartiynari भारतीय नारी 
boletobindas Bole to...Bindaas....बोले तो....बिंदास 
brajkiduniya ब्रज की दुनिया 
burabhala बुरा भला 
chaitanyanagar हंसा जाइ अकेला 
chandkhem हरिहर 
charchamanch चर्चा मंच 
chavannichap chavanni chap (चवन्नी चैप) 
chouthaakhambha चौथा खंबा 
daayari डायरी 
dakbabu डाकिया डाक लाया 
devendra-bechainaatma बेचैन आत्मा 
dillidamamla ऐवें कुछ भी 
doosrapahlu दूसरा पहलू 
drashu ***…….सीधी खरी बात…….*** 
dr-mahesh-parimal संवेदनाओं के पंख 
drparveenchopra मीडिया डाक्टर 
ekla-chalo एकला चलो 
ek-shaam-mere-naam एक शाम मेरे नाम 
firdausdiary Firdaus Diary 
geetkalash गीत कलश 
girijeshrao एक आलसी का चिठ्ठा 
gurugodiyal अंधड़ ! 
gustakh गुस्ताख़ 
gyandarpan ज्ञान दर्पण 
hashiya हाशिया 
hathkadh Hathkadh 
ictipshindi Tips in Hindi [आई. सी. टिप्स हिंदी] 
jagadishwarchaturvedi नया जमाना 
jaikrishnaraitushar छान्दसिक अनुगायन 
jankipul जानकीपुल 
jantakapaksh जनपक्ष 
jindagikeerahen जिंदगी की राहें 
jlsingh jls 
johaisohai जो है सो है 
kabaadkhaana कबाड़खाना 
kajalkumarcartoons Kajal Kumar's Cartoons काजल कुमार के कार्टून 
kavitarawatbpl KAVITA RAWAT 
kpk-vichar मेरे विचार मेरी अनुभूति 
krantiswar क्रांति स्वर 
kuchhalagsa कुछ अलग सा 
kuldeepkikavita man ka manthan. मन का मंथन। 
kumarendra रायटोक्रेट कुमारेन्द्र 
laharein लहरें 
lalitdotcom ललित डॉट कॉम 
laltu आइए हाथ उठाएँ हम भी 
lamhon-ka-safar लम्हों का सफ़र 
lifeteacheseverything मेरी भावनायें... 
likhdala likh dala 
likhoyahanvahan लिखो यहां वहां 
main-samay-hoon समय के साये में 
masharmasehar Sehar 
mykalptaru कल्पतरु 
naisadak कस्‍बा qasba 
navgeetkipathshala नवगीत की पाठशाला 
neerajjaatji मुसाफिर हूँ यारों 
ngoswami नीरज 
omjaijagdeesh वंदे मातरम् 
onkarkedia कविताएँ 
pahleebar पहली बार 
pammisingh Guftugu 
paramjitbali-ps2b ******दिशाएं****** 
parisamvad परवाज़... शब्दों के पंख 
pittpat बर्ग वार्ता - Burgh Vartaa 
pramathesh jigyasa जिज्ञासा 
prasunbajpai पुण्य प्रसून बाजपेयी 
pratibhakatiyar प्रतिभा की दुनिया 
pratibimbprakash प्रतिबिंब - प्रकाश 
praveenpandeypp न दैन्यं न पलायनम् 
purushottampandey जाले 
purvaai पुरवाई 
radioplaybackindia रेडियो प्लेबैक इंडिया 
ranars Agri Commodity News English-Hindi 
rangwimarsh रंगविमर्श 
rashmiravija अपनी, उनकी, सबकी बातें 
raviratlami छींटे और बौछारें 
rooparoop रूप-अरूप 
rozkiroti रोज़ की रोटी - Daily Bread 
rythmsoprano हिंदी फिल्म संगीत का खजाना 
sadalikhna सदा 
samvedan सहज साहित्य 
sandhyakavyadhara मैं और मेरी कविताएं 
sanskaardhani मिसफिट Misfit 
sapne-shashi sapne(सपने) 
sarokarnama सरोकारनामा 
satish-saxena मेरे गीत ! 
seedhikharibaat सीधी खरी बात.. 
shabdshikhar शब्द-शिखर 
sharmakailashc Kashish - My Poetry 
shashwat-shilp शाश्वत शिल्प 
shesh-fir शेष फिर... 
shyamthot श्याम स्मृति.. 
sriramprabhukripa श्रीराम प्रभु कृपा: मानो या न मानो 
sudhinama Sudhinama 
sumitpratapsingh सुमित प्रताप सिंह  
sushma-aahuti 'आहुति' 
tamasha-e-zindagi तमाशा-ए-जिंदगी  
teesarakhamba तीसरा खंबा 
tensionproof Y K SHEETAL 
travelwithmanish मुसाफ़िर हूँ यारों... (Musafir Hoon Yaaron…) 
triptishukla कच्ची लोई 
tsdaral अंतर्मंथन 
ulooktimes उलूक टाइम्स 
usiag नयी उड़ान + 
vandana-zindagi जिन्दगी 
yehmerajahaan Yeh Mera Jahaan 

शुक्रवार, 21 अक्तूबर 2016

पतियाें काे पीटने में तीसरे नंबर पर हैं भारतीय पत्नियाँ ??

अपने देश भारत में घरेलू हिंसा एक व्यापक विमर्श का विषय है। अक्सर ही  हम देखते हैं कि आये दिन कोई न कोई महिला अपने पति की हिंसा का शिकार होती है। घरेलू हिंसा का ग्राफ दिन प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है। अक्सर अापने 'पतियों' द्वारा ढाए जाने वाले जुल्मों की दास्तां सुनी हाेगी, लेकिन यूएन द्वारा करवाए गए एक सर्वे में पतियों पर हुए घरेलू हिंसा के चौंकाने वाले आंकड़े सामने आए हैं। इसके अनुसार पतियों को मारने के लिए पत्नियां बेलन, बेल्ट, जूते व किचन के अन्य सामानों का इस्तेमाल करती हैं।

अांकड़ाें की बात करें तो, मिस्र  में घरेलू हिंसा के तहत सबसे ज्यादा पति पीटे जाते हैं। इस श्रेणी में दूसरा नाम यूनाइटेड किंगडम का है और तीसरे नंबर पर भारत है। भारत का नाम तीसरे स्थान पर आना कई सवाल भी खड़े कर रहा है और संशय भी क्योंकि भारतीय समाज की प्रवृत्ति  प्रायः इसके विपरीत है। खैर, इस बारे में अभी यह जानकारी आनी शेष है कि यह सर्वे किन राज्यों या शहरों में किया गया, किस तबके के लोगों से बात किया गया, पूछी जाने वाली प्रश्नावली क्या थी और किस एजेंसी की मार्फ़त यह सर्वे किया गया ? 

इस रिपोर्ट के अनुसार तलाक लेने वाली महिलाओं में 66 फीसदी महिलाएं वही होती हैं, जो अपने पतियों के साथ खराब व्यवहार करती हैं। पत्नी से पीड़ित पति यह भी एक अजीब संयोग है कि इस सर्वे से संबंधित ख़बरें भी तभी प्रसारित हुईं, जब भारत में करवा चौथ के त्यौहार मनाने की तैयारियाँ चल रही थीं। ख़ैर, असलियत सामने आणि अभी बाकी है।  यह सही है कि  भारत में नारी-सशक्तिकरण की जड़ें धीरे-धीरे मजबूत हो रही हैं, पर इतनी भी नहीं कि इसकी आड़ में पत्नियाँ, पतियों की पिटाई करने लगी हैं। 

खैर, सोशल मीडिया पर यूएन द्वारा करवाया गये इस तथाकथित सर्वे  को लेकर खासा प्रतिक्रियाएं देखने को मिली हैं। एक यूजर ने लिखा कि इसके पीछे सबसे कड़वा सच है कि समाज पुरुषों के साथ होने वाले जुल्मों के प्रति उदासीन रहता है, आवाज नहीं उठाता। तो एक अन्य यूजर ने लिखा कि एक लंबे समय से पत्नियाँ पतियों के जुल्म सह रही हैं, लेकिन अब पत्नियों ने भी पतियों को सबक सिखाना सीख लिया है।

पर, इस बात को सुनकर अभी भी हैरानी होती है  कि भारत इस हिंसा में तीसरे स्थान पर है !!

बुधवार, 19 अक्तूबर 2016

दाम्पत्य प्रेम का उत्सव है करवा चौथ

करवा चौथ सुहागिनों का एक व्रत मात्र नहीं है, बल्कि दाम्पत्य प्रेम का उत्सव भी है। रिश्तों की डोर को मजबूत रखने का एहसास भी है। चौदहवीं का चाँद की खूबसूरती उपमा अपने यहाँ खूब दी जाती है, पर करवा चौथ के  चाँद की बात ही निराली होती है। इस दिन तो उनकी बड़ी मनुहार होती है और चाँद भी खूब लुका -छिपी खेलता है।  वैसे भी चाँद की शीतलता और मधुरता  का स्वभाव दाम्पत्य प्रेम के लिए जरुरी है। जीवन साथी को चाँद की उपमा दी जाती है और चांदनी को प्रेम की। ऐसे में करवा चौथ के साथ चाँद का तादात्म्य और भी गहरा हो जाता है। 

करवा चौथ हिन्दुओं का एक प्रमुख त्यौहार है, जिसे पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश में बहुत श्रद्धापूर्वक मनाया जाता है।  करवा चौथ के दिन श्री गणेश, मां गौरी और चंद्रमा  का पूजन किया जाता है। पूजन करने के लिए बालू की वेदी बनाकर सभी देवों को स्थापित किया जाता है। कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को मनाये जाने वाले इस त्यौहार में सुहागिन स्त्रियाँ अपने पति की लंबी आयु, स्वास्थ्य व सौभाग्य की कामना करते हुए व्रत रखती हैं। इस पर्व पर महिलाएं हाथों में मेहंदी रचाकर, चूड़ी पहन व सोलह श्रृंगार कर अपने पति की पूजा कर व्रत का पारायण करती हैं। यह व्रत सुबह सूर्योदय से पहले करीब 4  बजे के बाद शुरू होकर रात में चंद्रमा दर्शन के बाद संपूर्ण होता है। इस दिन पत्नियाँ निराहार रहकर चन्द्रोदय की प्रतीक्षा करती हैं और रात में चन्द्रमा को अ‌र्घ्य देने के उपरांत ही अपना व्रत तोड़ती हैं। 

भारत देश में वैसे तो चौथ माता जी के कई  मंदिर स्थित है, लेकिन सबसे प्राचीन एवं सबसे अधिक ख्याति प्राप्त मंदिर राजस्थान राज्य के सवाई माधोपुर जिले के चौथ का बरवाड़ा गाँव में स्थित है । चौथ माता के नाम पर इस गाँव का नाम बरवाड़ा से चौथ का बरवाड़ा पड़ गया । चौथ माता मंदिर की स्थापना महाराजा भीमसिंह चौहान ने की थी ।

करवा चौथ व्रत से कई  कहानियां जुडी हुई हैं। इनमें से सर्वप्रमुख एक साहूकार के सात बेटों और उनकी एक बहन करवा से जुडी हुई है। इस कहानी के अनुसार सभी सातों भाई अपनी बहन से बहुत प्यार करते थे। यहाँ तक कि वे पहले उसे खाना खिलाते और बाद में स्वयं खाते थे। एक बार उनकी बहन ससुराल से मायके आई हुई थी। शाम को भाई जब अपना व्यापार-व्यवसाय बंद कर घर आए तो देखा कि उनकी बहन बहुत व्याकुल थी। सभी भाई खाना खाने बैठे और अपनी बहन से भी खाने का आग्रह करने लगे, लेकिन बहन ने बताया कि उसका आज करवा चौथ का निर्जल व्रत है और वह खाना सिर्फ चंद्रमा को देखकर उसे अर्घ्‍य देकर ही खा सकती है। चूँकि चंद्रमा अभी तक नहीं निकला है, इसलिए वह भूख-प्यास से व्याकुल  है।

सबसे छोटे भाई को अपनी बहन की हालत देखी नहीं गई और वह दूर पीपल के पेड़ पर एक दीपक जलाकर चलनी की ओट में रख देता है। दूर से देखने पर वह ऐसा प्रतीत होता है कि जैसे चतुर्थी का चाँद उदित हो रहा हो। इसके बाद भाई अपनी बहन को बताता है कि चाँद निकल आया है, तुम उसे अर्घ्य देने के बाद भोजन कर सकती हो। बहन खुशी के मारे सीढ़ियों पर चढ़कर चाँद को देखती है, उसे अर्घ्‍य देकर खाना खाने बैठ जाती है।

वह पहला टुकड़ा मुँह में डालती है तो उसे छींक आ जाती है। दूसरा टुकड़ा डालती है तो उसमें बाल निकल आता है और जैसे ही तीसरा टुकड़ा मुँह में डालने की कोशिश करती है तो उसके पति की मृत्यु का समाचार उसे मिलता है। ऐसे में वह  व्याकुल होकर तड़प उठती  है। ऐसे में उसकी भाभी उसे सच्चाई से अवगत कराती है कि करवा चौथ का व्रत गलत तरीके से टूटने के कारण देवता उससे नाराज हो गए हैं। सच्चाई जानने के बाद करवा निश्चय करती है कि वह अपने पति का अंतिम संस्कार नहीं होने देगी और अपने सतीत्व से उन्हें पुनर्जीवन दिलाकर रहेगी। वह पूरे एक साल तक अपने पति के शव के पास बैठी रहती है। उसकी देखभाल करती है। उसके ऊपर उगने वाली सूईनुमा घास को वह एकत्रित करती जाती है।

एक साल बाद फिर करवा चौथ का दिन आता है। उसकी सभी भाभियाँ करवा चौथ का व्रत रखती हैं। जब भाभियाँ उससे आशीर्वाद लेने आती हैं तो वह प्रत्येक भाभी से 'यम सूई ले लो, पिय सूई दे दो, मुझे भी अपनी जैसी सुहागिन बना दो' ऐसा आग्रह करती है, लेकिन हर बार भाभी उसे अगली भाभी से आग्रह करने का कह चली जाती है। इस प्रकार जब छठे नंबर की भाभी आती है तो करवा उससे भी यही बात दोहराती है। यह भाभी उसे बताती है कि चूँकि सबसे छोटे भाई की वजह से उसका व्रत टूटा था अतः उसकी पत्नी में ही शक्ति है कि वह तुम्हारे पति को दोबारा जीवित कर सकती है, इसलिए जब वह आए तो तुम उसे पकड़ लेना और जब तक वह तुम्हारे पति को जिंदा न कर दे, उसे नहीं छोड़ना। ऐसा कहकर  वह चली जाती है। सबसे अंत में छोटी भाभी आती है। करवा उनसे भी सुहागिन बनने का आग्रह करती है, लेकिन वह टालमटोली करने लगती है। इसे देख करवा उन्हें जोर से पकड़ लेती है और अपने सुहाग को जिंदा करने के लिए कहती है। भाभी उससे छुड़ाने के लिए नोचती है, खसोटती है, लेकिन करवा नहीं छोड़ती है। अंत में उसकी तपस्या को देख भाभी पसीज जाती है और अपनी छोटी अँगुली को चीरकर उसमें से अमृत उसके पति के मुँह में डाल देती है। करवा का पति तुरंत श्रीगणेश-श्रीगणेश कहता हुआ उठ बैठता है। इस प्रकार प्रभु कृपा से उसकी छोटी भाभी के माध्यम से करवा को अपना सुहाग वापस मिल जाता है। 

करवा चौथ के व्रत का जिक्र महाभारत में भी मिलता है।  कहते हैं कि  जब पांडव वन-वन भटक रहे थे तो भगवान श्रीकृष्ण ने द्रौपदी को इस दिव्य व्रत के बारे बताया था।  इसी व्रत के प्रताप से द्रौपदी ने अपने सुहाग की लंबी उम्र का वरदान पाया था। 

फिल्मों और धारावाहिकों ने करवा चौथ के व्रत को ग्लैमराइज रूप भी दिया है। कुछ ही  सिमित इस त्यौहार को इनके चलते देशव्यापी पहचान मिली है। करवाचौथ को लेकर तमाम बातें भी कही जाती हैं। मसलन, मात्र पत्नी द्वारा ही व्रत क्यों रखा जाये या मात्र व्रत रखने से भला कौन सी उम्र बढ़ती है ? सवाल उठने स्वाभाविक भी हैं और इनके तार्किक जवाब देना  मुश्किल भी है। अपने देश में व्रत और त्यौहारों की दीर्घ परंपरा रही है और यह भी उतना ही सच है कि अधिकतर त्यौहारों और व्रत का जिम्मा महिलाओं का ही होता है।  कुछ लोग इसे पितृ-सत्तात्मक सोच से जोड़कर देखते हैं, तो कुछेक का मानना  है कि पुरुषों में इतना संयम और धैर्य नहीं होता की वे इसे निभा सकें। खैर, तर्क-वितर्कों से परे तमाम परम्पराएँ आज भी समाज को जीवंत रूप देती हैं। आस्था उनका मूल तत्व है।   

वस्तुत : करवा चौथ के व्रत को फायदे-नुकसान या बाध्यता की  बजाय प्यार और समर्पण के नजरिये से देखने की जरूरत है। अपने रिश्तों में संजीदगी भी व्रत का जरुरी हिस्सा होता है। उम्र का बढ़ना या न बढ़ना अपने हाथ में तो नहीं है, लेकिन प्यार की उम्र जरूर बढ़ती है। सिर्फ पत्नियाँ ही नहीं बल्कि अब तो पति भी अपनी-अपनी तरह से प्यार का इज़हार करने में पीछे नहीं रहते। चाहे वो साथ में चाँद का इंतज़ार हो, छुट्टी लेकर पूरा दिन साथ में बिताना हो, उपहार देना हो या साथ में व्रत रखना हो। ऐसे में व्रत को केवल सिद्धांत रूप में देखना नाकाफ़ी होगा। यह व्रत पति-पत्नी में प्यार, सम्मान, विश्वास को मजबूत करते हुए रिश्तों को प्रगाढ़ बनाता है।  करवा चौथ के व्रत और पर्व को समग्रता में देखते हुए अपने वैवाहिक जीवन को और और सुदृढ़ करने की दोतरफ़ा कोशिश जरूर होनी चाहिए।

करवा चौथ का पर्व हर साल आता है और पूरे जोशो खरोश के साथ सेलिब्रेट किया जाता है। करवा चौथ  सिर्फ एक त्यौहार ही नहीं है, बल्कि इसके पीछे एक सन्देश भी छिपा हुआ है।  आज समाज में जब रिश्तों के मायने बदलते जा रहे हैं, भौतिकता की चकाचौंध में हमारे पर्व और त्यौहार भी उपभोक्तावादी संस्कृति तक सिमट गए हैं, ऐसे में करवा चौथ के मर्म और मूल को समझने की जरूरत है। 

करवा चौथ (करक चतुर्थी) अर्थात भारतीय नारी के समर्पण, शीलता, सहजता, त्याग, महानता एवं पतिपरायणता  को व्यक्त करता एक पर्व। दिन भर स्वयं भूखा प्यासा रहकर रात्रि को जब मांगने का अवसर आया तो अपने पति देव के मंगलमय, सुखमय और दीर्घायु जीवन की ही याचना करना यह नारी का त्याग और समर्पण नहीं  तो और क्या है ?

करवा चौथ का वास्तविक संदेश दिन भर भूखे रहना ही नहीं अपितु यह है नारी अपने पति की प्रसन्नता के लिए, सलामती के लिए इस हद तक जा सकती है कि पूरा दिन भूखी - प्यासी भी रह सकती है। करवा चौथ नारी के लिए एक व्रत है और पुरुष के लिए एक शर्त। शर्त केवल इतनी कि जो नारी आपके लिए इतना कष्ट सहती है उसे कष्ट न दिया जाए। जो नारी आपके लिए समर्पित है उसको और संतप्त न किया जाए। जो नारी प्राणों से बढ़कर आपका सम्मान करती है जीवन भर उसके सम्मान की रक्षा का प्रण आप भी लो। उसे उपहार नहीं आपका प्यार चाहिए !!

मंगलवार, 30 अगस्त 2016

सिंधु और साक्षी के बाद समाज में बेटियाँ



बेटियों को मौका मिले तो वो तारे भी जमीं पर लाने का हौसला रखती हैं। स्कूली शिक्षा से लेकर कैरियर तक उन्हें जहाँ भी मौका मिला, डॉक्टर-इंजीनियर-आई.ए.एस की परीक्षाओं से लेकर अंतरिक्ष की कल्पना तक...... हर जगह उन्होंने नए मुकाम गढ़े। पर इस सबके बावजूद पितृसत्तात्मक समाज सदैव से बेटियों के साथ दोयम व्यवहार करता रहा है। भ्रूण-हत्या से लेकर धरा पर आने तक हर कदम पर उसकी आवाज़ और जज्बे को कुचलने का प्रयास किया गया। उनकी शारीरिक संरचना को ही उनकी कमजोरी बना दिया गया।  रक्षाबंधन जैसे त्यौहार को भाई द्वारा बहन की रक्षा से जोड़कर, बहनों को और कमजोर बना दिया गया। ऐसे में रियो ओलम्पिक में जब लाव-लश्कर के साथ गई भारतीय टीम को अंतिम समय पर दो बेटियों ने मेडल लाकर उबारा तो एक बार फिर से समाज में बीटा बनाम बेटी की बहस तेज हो गई।  बदलते वक़्त के साथ समाज की दकियानूसी सोच को अब बदलने की जरुरत है। जिस देश में 125 करोड़ लोग मिल कर एक बेटी की इज्जत नहीं बचा पाते, उस देश की दो बेटियों पी. वी. सिंधु और साक्षी मलिक ने रियो ओलम्पिक में 125 करोड़ देशवासियों की इज्जत बचा ली। यह भी संयोग था कि उस दिन रक्षाबंधन का पर्व था। जिस समाज में दहेज़ के नाम पर बहुओं से सोना लाने की आशा की जाती है, वह देश आज बेटियों  से गोल्ड की उम्मीद लगाये है ! इन सबको लेकर प्रिंट मिडिया से लेकर इलेक्ट्रानिक मीडिया और सोशल मीडिया व वाट्सएप पर नारी-सशक्तिकरण और बेटियों के पक्ष में बड़ी अच्छी-अच्छी बातें सुनने को मिलीं, उनमें से कुछेक यहाँ शेयर कर रही हूँ -

सिंधु, साक्षी तुमने मेडल जीता
देश झूम कर नाचा है
तुमने भ्रूण हत्यारों के
चेहरे पे जड़ा तमाचा है
आज ख़ुशी से नाच रहे 
साक्षी-सिंधु चिल्लाते हो
अपने घर में बेटी जन्मे
फिर क्यों मुँह लटकाते हो?
रियो ओलम्पिक में भारत ने
दो मेडल ही पाया है
और ये दोनों मेडल भी
बेटियों ने ही लाया है
आज इन्हीं बेटियों के आगे
जनमानस नतमस्तक है
आज इन्हीं के कारण ही 
भारत का ऊँचा मस्तक है
आज ख़ुशी से झूम रहे हो
अच्छी बात है झूमो-गाओ
लेकिन घर में बेटी जन्मे 
तब भी इतनी खुशी मनाओ
बेटियाँ कम नहीं किसी से
शक्ति का अवतार हैं
इनको जो सम्मान न दे
उसका जीना धिक्कार है !!

************************************
हुआ कुम्भ खेलों का आधा, हाथ अभी तक खाली थे।
औरों की ही जीत देख हम, पीट रहे क्यों ताली थे।
सवा अरब की भीड़ यहाँ पर, गर्दन नीचे डाले थी।
टूटी फूटी आशा अपनी, मानो भाग्य हवाले थी।
मक्खी तक जो मार न सकते, वे उपदेश सुनाते थे।
जूझ रहे थे उधर खिलाड़ी, लोग मज़ाक उड़ाते थे।
कोई कहता था भारत ने, नाम डुबाया खेलों में।
कोई कहता धन मत फूंको, ऐसे किसी झमेलों में।
कोई कहता मात्र घूमने, गए खिलाड़ी देखो तो।
कोई कहता भारत की है, पंचर गाड़ी देखो तो।
बस क्रिकेट के सिवा न जिनको, नाम पता होगा दूजा।
और वर्ष भर करते हैं जो, बस क्रिकेट की ही पूजा।
चार साल के बाद उन्हें फिर नाक कटी सी लगती है।
पदक तालिका देख देख कर, शान घटी सी लगती है।
आज देश की बालाओं ने, ताला जड़ा सवालों पर।
कस के थप्पड़ मार दिया है, उन लोगों के गालों पर।
बता दिया है जब तक बेटी, इस भारत की जिंदा हैं।
यह मत कहना भारत वालो, हम खुद पर शर्मिंदा हैं।
शीश नहीं झुकने हम देंगी, हम भारत की बेटी हैं।
आन बान की खातिर तो हम, अंगारों पर लेटी हैं।
भूल गए यह कैसे रक्षा-बंधन आने वाला है।
बहिनों के मन में पावन, उत्साह जगाने वाला है।
भैया रहें उदास भला फिर, कैसे राखी भाती ये।
पदकों के सूखे में पावस, कैसे भला सुहाती ये।
दो-दो पदकों की यह राखी, बाँधी, देश कलाई पर।
इतना तो अहसान सदा ही, करती बहिना भाई पर।
आज साक्षी के भुजदंडों, ने सबको ललकारा है।
अगर हौसला दिल में है तो, पूरा विश्व हमारा है।
पीवी संधू के तेवर हैं,  जैसे लक्ष्मीबाई हो।
अपनी भाई की खातिर ज्यों, बहिन युद्ध में आई हो।
जिनको अबला कहा वही तो, सबला बन छा जातीं हैं।
अपने मन में ठान लिया वह, पूरा कर दिखलाती हैं !!

*******************************************
ऋणी रहेगा देश सिंधु, साक्षी, इस राखी के उपहार का
बहनों के सर जिम्मा हैं अब राष्ट्र के विस्तार का
मांस-मीट की ताकत फिर से दूध-दही से हारी हैं
हिन्दुस्तान में  साबित हो गया बेटी बेटों पर भारी हैं
करते रहे गुनाह हम, केवल बेटे के शौक में
कितने मेडल मार दिए, जीते जी ही कोख में
चमक रहीं है बेटियाँ, बन माथे का बिंदु 
बढ़ा रहीं सम्मान देश का, साक्षी और सिंधु !!

******************************************
एक बानगी यह भी..... 

Days are really changing fast in India. 
Earlier women used to win beauty contests and men used to be wrestling champions.
Now the roles have reversed. 
Rohit Khandelwal was Mr World 2016
While Sakshi is wrestling champion in 2016 Olympics
Food for thought....
Sindhu won silver !!
Sakshi won bronze !!

इस तरह के विचारों और भावों को सुनना बहुत सुकूनदायी लगता है।  पर, दुर्भाग्यवश इस तरह की बातों का ज्वार बेहद अल्प होता है।  कुछेक समय बाद, फिर से वही पुराना ढर्रा आरम्भ हो जाता है। "बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ" जैसी चीजें नारों तक ही सीमित रह जाती हैं। जरूरत है कि आज के दौर की सच्चाई को स्वीकार किया जाये और बेटियों को सशक्त करके राष्ट्र को भी सशक्त किया जाये !!

शुक्रवार, 5 अगस्त 2016

हमारे घर आँगन आज सावन आया है...




चना ज़ोर गरम और पकौड़े  प्याज़ के ...
चार दिन मे सूखेंगे कपड़े ये आज के ...

आलस और खुमारी बिना किसी काज के ...
टर्राएँगे मेंढक फिर बिना किसी साज़ के ...

बिजली की कटौती का ये मौसम आया है ...
हमारे घर आँगन आज सावन आया है ...

भीगे बदन और गरम चाय की प्याली ...
धमकी सी गरजती बदली वो काली ...

नदियों सी उफनती मुहल्ले की नाली ...
नयी सी लगती वो खिड़की की जाली ...

छतरी और थैलियों का मौसम आया है ...
हमारे घर आँगन आज सावन आया है ...

निहत्थे से पौधों  पे बूँदो का वार ...
हफ्ते मे आएँगे अब दो-तीन इतवार ...

पानी के मोतियों से लदा वो मकड़ी का तार...
मिट्टी की खुश्बू से सौंधी वो फुहार ...

मोमबत्तियाँ जलाने का मौसम आया है...
हमारे घर आँगन आज सावन आया है ...!


सावन में पेड़ों पर पड़ने वाले झूले तो अब गुजरे ज़माने की बातें हो गई। नई पीढ़ी अब झूलों का आनंद या तो घर में लेती है या पार्कों में। 

(चित्र में : बिटिया अपूर्वा झूले का आनंद लेती हुई)