आपका समर्थन, हमारी शक्ति

शुक्रवार, 28 नवंबर 2014

काश समय एक बार मुड़कर फिर वहीँ चला जाये


शादी की दसवीं सालगिरह। काश समय एक बार मुड़कर फिर वहीँ चला जाये, जहाँ से हमने शुरुआत की थी। एक बार फिर से उन दिनों को जीने का जी चाहता है। 






जीवन-साथी कृष्ण कुमार जी के विचार अच्छे लगे। इन्होंने लिखा -''जीवन में एक और महत्वपूर्ण पड़ाव। दाम्पत्य जीवन का एक दशक आज पूरा हुआ। यहाँ पाश्चात्य विचारक फ्रैंज स्कूबर्ट के शब्द याद आ रहे हैं, ’’जिसने सच्चा दोस्त पा लिया, वह सुखी है। लेकिन उससे भी सुखी वह है जिसने अपनी पत्नी में सच्चा मित्र पा लिया है।’’ हमारा यह प्यार, यह साथ यूँ ही चलता रहे।  

आप सभी की शुभकामनाओं और स्नेह के लिए आभार। 

एक टिप्पणी भेजें