आपका समर्थन, हमारी शक्ति

शनिवार, 1 मार्च 2014

29 फरवरी को जन्मदिन : उस तारीख़ का इंतज़ार


मेरे पापा का जन्मदिन 29 फरवरी को पड़ता है। हमें इस दिन के लिए चार साल का लम्बा इंतज़ार  करना पड़ता है, क्योंकि  29 फरवरी हर चाल साल में एक बार आती  है और अब ये वर्ष 2016 में आएगा। पापा हर साल हम  सबको जन्मदिन की शुभकामनाएं और आशीर्वाद देते हैं, फिर हमें उन्हें बधाई देने के लिए चार साल का लम्बा इंतज़ार क्यों करें ? सो, 28 फरवरी के बाद अगले दिन हम उनका हैप्पी बर्थडे सेलिब्रेट करते हैं, सो आज उनका जन्मदिन है और इस जन्मदिन पर हम यही चाहेंगे कि पापा जी को जीवन की सारी खुशियां मिलें, वे स्वस्थ, सुखी, समृद्ध  व दीर्घायु जीवन जियें और हम लोगों को अपना प्यार, स्नेह और आशीर्वाद यूँ ही देते रहें !!


एक परिचय : स्वभाव से सहज, सौम्य एवं विनम्र श्री राजेन्द्र प्रसाद जी समाज सेवा के साथ-साथ सैदपुर में नगर पंचायत अध्यक्ष, जिला भाजपा अध्यक्ष, गाजीपुर एवं भाजपा के राष्ट्रीय परिषद सदस्य रहे, तो उनकी धर्मपत्नी श्रीमती सावित्री देवी जी ने भी नगर पंचायत अध्यक्ष, सैदपुर के पद को सुशोभित किया। दोनों जन वर्तमान में समाज सेवा में रत् हैं। 

भरे-पूरे परिवार में आपको तीन पुत्र-रत्न और दो पुत्री-मणियाँ प्राप्त हुईं। आप इन सबकी शिक्षा  के प्रति शुरू से ही सचेत रहे। आपके श्वसुर प्रो0 टुँअर प्रसाद जी अपने जमाने में इतिहास विषय के गोल्ड मेडलिस्ट थे। शिब्ली स्नाकोत्तर महाविद्यालय, आजमगढ़ में इतिहास विभाग के विभागाध्यक्ष रूप में उन्होंने  60-70 के दशक में काफी ख्याति अर्जित की। 

 आपके बड़े पुत्र पीयूष कुमार  आई0आई0टी0 रुड़की से शिक्षा प्राप्त करने के पश्चात श्री लंका में एक बहुराष्ट्रीय कम्पनी में  महाप्रबन्धक, मंझले पुत्र  समीर सौरभ  लखनऊ विश्वविद्यालय से एल0एल0बी0 करने के बाद उ0प्र0 में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक एवं छोटे पुत्र अश्विनी कुमार आई0आई0टी0 कानपुर से शिक्षा प्राप्त करने के बाद गुजरात कैडर के 1997 बैच के आई0ए0एस0 अधिकारी के रुप में कार्यरत हैं। 

 बड़ी बेटी आकांक्षा कॉलेज में प्रवक्ता के बाद साहित्य, लेखन और ब्लाॅगिंग के क्षेत्र में प्रवृत्त हैं।  देश-विदेश की शताधिक प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं और इंटरनेट पर विभिन्न वेब पत्रिकाओं में नारी विमर्श, बाल विमर्श और सामाजिक मुद्दों से सम्बंधित विषयों पर प्रमुखता से लेखन करने वाली आकांक्षा की अब तक 2 कृतियाँ प्रकाशित- चाँद पर पानी (बाल-गीत संग्रह-2012) एवं ' क्रांति -यज्ञ : 1857-1947 की गाथा' (संपादित, 2007) हैं । उ.प्र. के मुख्यमंत्री द्वारा न्यू मीडिया ब्लाॅगिंग हेतु ’’अवध सम्मान’’, परिकल्पना समूह द्वारा ’’दशक के श्रेष्ठ हिन्दी ब्लाॅगर दम्पति’’ सम्मान, विक्रमशिला हिन्दी विद्यापीठ, भागलपुर, बिहार द्वारा डाॅक्टरेट (विद्यावाचस्पति) की मानद उपाधि, भारतीय दलित साहित्य अकादमी द्वारा ‘डाॅ. अम्बेडकर फेलोशिप राष्ट्रीय सम्मान‘ व ‘‘वीरांगना सावित्रीबाई फुले फेलोशिप सम्मान‘, राष्ट्रीय राजभाषा पीठ इलाहाबाद द्वारा ’भारती ज्योति’, साहित्य मंडल, श्रीनाथद्वारा, राजस्थान द्वारा ”हिंदी भाषा भूषण”, ‘‘एस.एम.एस.‘‘ कविता पर प्रभात प्रकाशन, नई दिल्ली द्वारा पुरस्कार सहित विभिन्न प्रतिष्ठित सामाजिक-साहित्यिक संस्थाओं द्वारा विशिष्ट कृतित्व, रचनाधर्मिता और सतत् साहित्य सृजनशीलता हेतु दर्जनाधिक सम्मान और मानद उपाधियाँ प्राप्त हैं। 

आकांक्षा यादव के जीवन साथी कृष्ण कुमार यादव भारतीय डाक सेवा (2001) के अधिकारी के साथ-साथ साहित्य, लेखन और ब्लाॅगिंग के क्षेत्र में चर्चित नाम हैं। 

छोटी बेटी प्रेरणा  संस्कृत जैसे क्लिष्ट विषय में परास्नातक की उपाधि प्राप्त हैं। उनकी शादी भारतीय राजस्व सेवा के अधिकारी विश्वजीत सिंह से हुई है। 
















एक टिप्पणी भेजें