आपका समर्थन, हमारी शक्ति

सोमवार, 2 मई 2011

हिंदी ब्लागिंग से आशाएं बढ़ा गया दिल्ली में हुआ ब्लागर्स सम्मलेन

ब्लागिंग को एक स्वतंत्र विधा के रूप में स्थापित करने में तमाम प्रक्रियाएं परिलक्षित हो रही हैं, इसी क्रम में हिंदी ब्लागिंग ने भी वर्ष 2003 में आरंभ होकर लगभग 8 वर्ष का सफ़र पूरा कार लिया है. आज 30,000 से ज्यादा लोग हिंदी ब्लागिंग से जुड़े हुए हैं. इनमें प्रिंट मीडिया और इलेक्ट्रानिक मीडिया से लेकर समाज के हर वर्ग, पेशे से जुड़े लोग अपनी भावनाओं को न सिर्फ चिट्ठों पर अभिव्यक्त कर रहे हैं, बल्कि उसे लोगों के साथ बाकायदा साझा करके नए विमर्शों को भी जन्म दे रहे हैं. ब्लागिंग और सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट्स का क्रेज इतना बढ़ चुका है कि वह तमाम देशों में चल रहे क्रांति और आंदोलनों को भी गंभीर धार दे रही है. हाल ही में भारत में अन्ना हजारे के आन्दोलन के दौरान भी इसकी प्रखर भूमिका देखने को मिली. ऐसे में ब्लागिंग से जुड़ा कोई भी कार्यक्रम अपने आप में महत्वपूर्ण हो जाता है.



हिंदी साहित्य निकेतन की स्वर्ण जयंती पर हिंदी साहित्‍य निकेतन, परिकल्‍पना डॉट कॉम और नुक्‍कड़ डॉट कॉम की त्रिवेणी द्वारा हिंदी भवन, नई दिल्ली में 30 अप्रैल, 2011 को आयोजित कार्यक्रम को इसी सन्दर्भ में देखा जाना चाहिए. बतौर मुख्यमंत्री उत्‍तराखंड के मुख्‍यमंत्री डा0 रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने जब अपने उद्गार व्यक्त करते हुए कहा कि, हिंदी भाषा जब चहुं ओर से तमाम थपेड़े खा रही हो, अपने ही घर में अपमानित हो रही हो और हिंदी में सृजन करने वाला अपने आप को उपेक्षित महसूस कर रहा हो, ऐसे में इस प्रकार के कार्यक्रम की प्रासंगिकता और बढ़ जाती है, तो मुख्यमंत्री से परे वे एक साहित्यकार के रूप में ही अपना दुःख व्यक्त कर रहे थे. आखिर वे भी साहित्य में उसी भावभूमि के पोषक हैं, जिसका मानना है कि, कल्‍पना स्‍वर्ग की तरंगों का अहसास कराती है, वहीं सृजन हमारे सामाजिक सरोकार को मजबूती देता है। ऐसे में एक प्रभावी मंच से निशंक जी ने उक्त उद्गार व्यक्त कर हिंदी ब्लागिंग से नई आशाएं भी व्यक्त की हैं, जिनका कि सम्मान किया जाना चाहिए.




इस अवसर पर अविनाश वाचस्‍पति और रवीन्‍द्र प्रभात द्वारा संपादित हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग की पहली मूल्‍यांकनपरक पुस्‍तक ‘हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग : अभिव्‍यक्ति की नई क्रांति’, का लोकार्पण जहाँ हिंदी ब्लागिंग को नए आयाम दिखता है, वहीँ यह भी सचेत करता है कि अभिव्यक्ति की इस नई क्रांति को अपने दलदलों से भी बचकर रहना होगा. क्योंकि इस विधा के उन्नयन के साथ ही इस पर हमले भी तेज हो रहे हैं. फ़िलहाल रवीन्द्र प्रभात जी की पुस्तक ''हिंदी ब्लागिंग का इतिहास'' का भी लोगों को इंतजार बना रहेगा, जिसके इस कार्यक्रम में दिखने की सम्भावना थी.



दो सत्रों में संपन्‍न इस कार्यक्रम का सशक्त पक्ष रहा, परिकल्‍पना डॉट कॉम की ओर से देश विदेश के 51 चर्चित और श्रेष्‍ठ तथा नुक्‍कड़ डॉट कॉम की ओर से हिंदी ब्‍लॉगिंग में विशिष्‍टता हासिल करने वाले 13 ब्‍लॉगरों को सारस्‍वत सम्‍मान प्रदान किया जाना. इससे यह कार्यक्रम और भी समावेशी और भागीदारीपूर्ण हो गया. जहाँ पहले सत्र की अध्‍यक्षता हास्‍य व्‍यंग्‍य के लोकप्रिय हस्‍ताक्षर एवं चर्चित ब्लागर अशोक चक्रधर ने की वहीँ मुख्‍य अतिथि का गुरुतर दायित्व संभाला वरिष्‍ठ साहित्‍यकार डॉ. रामदरश मिश्र ने और विशिष्‍ट अतिथि रहे प्रभाकर श्रोत्रिय। प्रमुख समाजसेवी विश्‍वबंधु गुप्‍ता और डायमंड बुक्‍स के संचालक नरेन्‍द्र कुमार वर्मा ने भी मंचासीन होकर कार्यक्रम की शोभा बढाई.



इस अवसर पर ब्लागिंग के बारे में भी गंभीर विमर्श हुआ. बकौल अशोक चक्रधर -''हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग ने सचमुच समाज में एक नई क्रांति का सूत्रपात किया है क्‍योंकि पत्रिकाओं और समाचार पत्रों में साहित्‍य और संस्‍कृति के पेज संकुचित होते जा रहे हैं और उनकी अभिव्‍यक्ति को धार दे रही है हिन्‍दी ब्‍लॅगिंग। ऐसे कार्यक्रमों से निश्चित रूप से हिंदी का विकास होगा और हिन्‍दी अंतरराष्‍ट्रीय फलक पर अग्रणी भाषा के रूप में प्रतिस्‍थापित होगी।'' वहीँ डॉ. रामदरश मिश्र इस विधा के प्रति आशान्वित होते दिखे-''जब मैंने साहित्य सृजन करना शुरु किया था तो मैं यह महसूस करता था कि कलम सोचती है और आज़ हिन्दी ब्लोगिंग के इस महत्वपूर्ण दौर मे यह कहने पर विवश हो गया हूँ कि उंगलिया भी सोचती है।'' हिंदी के प्रखर साहित्यकार प्रभाकर श्रोत्रिय ने तो अभिव्यक्ति के इस नए माध्यम 'ब्लागिंग' को वर्तमान परिवेश और घटना क्रम में लोकतांत्रिक अभिव्यक्ति से जोड़कर देखा और कहा कि हिंदी ब्लॉगिंग का तेजी से विकास हो रहा है, तमाम साधन और सूचना की न्यूनता के बावजूद यह माध्यम प्रगति पथ पर तीब्र गति से अग्रसर है, तकनीक और विचारों का यह साझा मंच कुछ बेहतर करने हेतु प्रतिबद्ध दिखाई दे रहा है । पूरे विमर्श के दौरान यह बात खुलकर सामने आई कि, हिंदी ब्‍लॉगिंग में सामाजिक स्‍वर और सरोकार पूरी तरह परिलक्षित हो रहा है। कई ऐसे ब्‍लॉगर हैं जो सामाजिक जनचेतना को हिंदी ब्‍लॉगिंग से जोड़ने का महत्‍वपूर्ण कार्य कर रहे हैं। वस्तुत: यह दुनिया विचारों की दुनिया है और सभी ब्लागर्स की कोशिश होनी चाहिए कि विचार शून्य में नहीं, बल्कि आम आदमी से जुड़कर आगे आएं।

इस कार्यक्रम के लिए परिकल्पना और ब्लागोत्सव जैसी कल्पनाओं को मूर्त रूप देकर 'अनेक ब्लॉग नेक हृदय' की बात कहने वाले लखनऊ शहर के ब्लागर रवीन्द्र प्रभात और नुक्कड़ सहित तमाम ब्लॉगों के कर्ता-धर्ता अविनाश वाचस्पति और हिंदी साहित्य निकेतन के मालिक और 'शोध-दिशा' पत्रिका के संपादक डा. गिरिजा शरण अग्रवाल सहित उनकी पूरी टीम को साधुवाद ! आशा की जानी चाहिए कि इस तरह के कार्यक्रम/सम्मलेन भविष्य में भी होते रहेंगें और हिंदी ब्लागिंग को नए आयामों के साथ नई दिशा भी दिखाएंगें !!

****************************************************************
इस अवसर पर हिन्दी ब्लॉगिंग के उत्‍थान में अविस्मरणीय योगदान हेतु 51 हिंदी ब्लॉगरों को ''हिंदी साहित्य निकेतन परिकल्पना सम्मान-2010'' से सम्मानित किया गया, जिसके अंतर्गत स्मृति चिन्ह, सम्मान पत्र, पुस्तकें और एक निश्चित धनराशि भी दी गई.

1. वर्ष का श्रेष्ठ नन्हा ब्लॉगर – अक्षिता (पाखी), पोर्टब्लेयर
2. वर्ष के श्रेष्ठ कार्टूनिस्ट – श्री काजल कुमार, दिल्ली
3. वर्ष की श्रेष्ठ कथा लेखिका – श्रीमती निर्मला कपिला, नांगल (पंजाब)
4. वर्ष के श्रेष्ठ विज्ञान कथा लेखक – डॉ. अरविन्द मिश्र, वाराणसी
5. वर्ष की श्रेष्ठ संस्मरण लेखिका – श्रीमती सरस्वती प्रसाद, पुणे
6. वर्ष के श्रेष्ठ लेखक – श्री रवि रतलामी, भोपाल
7. वर्ष की श्रेष्ठ लेखिका (यात्रा वृतान्त) – श्रीमती शिखा वार्ष्णेय, लंदन
8. वर्ष के श्रेष्ठ लेखक (यात्रा वृतान्त) – श्री मनोज कुमार, कोलकाता
9. वर्ष के श्रेष्ठ चित्रकार – श्रीमती अल्पना देशपांडे, रायपुर
10. वर्ष के श्रेष्ठ हिन्दी प्रचारक – श्री शास्त्री जे.सी. फिलिप, कोच्ची, केरल
11. वर्ष की श्रेष्ठ कवयित्री – श्रीमती रश्मि प्रभा, पुणे
12. वर्ष के श्रेष्ठ कवि – श्री दिवि‍क रमेश, दिल्ली
13. वर्ष की श्रेष्ठ सह लेखिका – सुश्री शमा कश्यप, पुणे
14. वर्ष के श्रेष्ठ व्यंग्यकार – श्री अविनाश वाचस्पति, दिल्ली
15. वर्ष की श्रेष्ठ युवा गायिका – सुश्री मालविका, बैंगलोर
16. वर्ष के श्रेष्ठ क्षेत्रीय लेखक – श्री संजीव तिवारी, दुर्ग (म.प्र.)
17. वर्ष के श्रेष्ठ क्षेत्रीय कवि – श्री एम. वर्मा, वाराणसी
18. वर्ष के श्रेष्ठ गजलकार – श्री दिगम्बर नासवा, दुबई
19. वर्ष के श्रेष्ठ कवि (वाचन) – श्री अनुराग शर्मा, पिट्सबर्ग अमेरिका
20. वर्ष की श्रेष्ठ परिचर्चा लेखिका – श्रीमती प्रीति मेहता, सूरत
21. वर्ष के श्रेष्ठ परिचर्चा लेखक – श्री दीपक मशाल, लंदन
22. वर्ष की श्रेष्ठ महिला टिप्पणीकार – श्रीमती संगीता स्वरूप, दिल्ली
23. वर्ष के श्रेष्ठ टिप्पणीकार – श्री हिमांशु पाण्डेय, सकलडीहा (यू.पी.)
24-25-26. वर्ष की श्रेष्ठ उदीयमान गायिका – खुशबू/अपराजिता/इशिता, पटना (संयुक्त रूप से)
27. वर्ष के श्रेष्ठ बाल साहित्यकार – श्री जाकिर अली ‘रजनीश’, लखनऊ
28. वर्ष के श्रेष्ठ गीतकार (आंचलिक) – श्री ललित शर्मा, रायपुर
29. वर्ष के श्रेष्ठ गीतकार (गायन) – श्री राजेन्द्र स्वर्णकार, बीकानेर, राजस्थान
30-31. वर्ष के श्रेष्ठ उत्सवी गीतकार – डॉ. रूपचंद्र शास्त्री ‘मयंक’, खटीमा एवं आचार्य संजीव वर्मा सलिल, भोपाल (संयुक्त रूप से)
32. वर्ष की श्रेष्ठ देशभक्ति पोस्ट – कारगिल के शहीदों के प्रति ( श्री पवन चंदन)
33. वर्ष की श्रेष्ठ व्यंग्य पोस्ट – झोलाछाप डॉक्टर (श्री राजीव तनेजा)
34. वर्ष के श्रेष्ठ युवा कवि – श्री ओम आर्य, सीतामढ़ी बिहार
35. वर्ष के श्रेष्ठ विचारक – श्री जी.के. अवधिया, रायपुर
36. वर्ष के श्रेष्ठ ब्लॉग विचारक – श्री गिरीश पंकज, रायपुर
37. वर्ष की श्रेष्ठ महिला चिन्तक – श्रीमती नीलम प्रभा, पटना
38. वर्ष के श्रेष्ठ सहयोगी – श्री रणधीर सिंह सुमन, बाराबंकी
39. वर्ष के श्रेष्ठ सकारात्मक ब्लॉगर (पुरूष) – डॉ. सुभाष राय, लखनऊ (उ0प्र0)
40. वर्ष की श्रेष्ठ सकारात्मक ब्लॉगर (महिला) – श्रीमती संगीता पुरी, धनबाद
41. वर्ष के श्रेष्ठ तकनीकी ब्लॉगर – श्री विनय प्रजापति, अहमदाबाद
42. वर्ष के चर्चित उदीयमान ब्लॉगर – श्री खुशदीप सहगल, दिल्ली
43. वर्ष के श्रेष्ठ नवोदित ब्लॉगर – श्री राम त्यागी, शिकागो अमेरिका
44. वर्ष के श्रेष्ठ युवा पत्रकार – श्री मुकेश चन्द्र, दिल्ली
45. वर्ष के श्रेष्ठ आदर्श ब्लॉगर – श्री ज्ञानदत्त पांडेय, इलाहाबाद
46. वर्ष के श्रेष्ठ ब्लॉग शुभचिंतक – श्री सुमन सिन्हा, पटना
47. वर्ष की श्रेष्ठ महिला ब्लॉगर – श्रीमती स्वप्न मंजूषा ‘अदा’, अटोरियो कनाडा
48. वर्ष के श्रेष्ठ ब्लॉगर – श्री समीर लाल ‘समीर’, टोरंटो कनाडा
49. वर्ष की श्रेष्ठ विज्ञान पोस्ट – भविष्य का यथार्थ (लेखक – जिशान हैदर जैदी)
50. वर्ष की श्रेष्ठ प्रस्तुति – कैप्टन मृगांक नंदन एण्ड टीम, पुणे
51. वर्ष के श्रेष्ठ लेखक (हिन्दी चिट्ठाकारी विषयक पोस्ट) – श्री प्रमोद ताम्बट, भोपाल

इसके अलावा नुक्कड़ डाट काम की तरफ से भी 'हिन्‍दी ब्‍लॉग प्रतिभा सम्‍मान-2011' के अंतर्गत 13 विशिष्ट ब्लॉगरों को हिंदी ब्लॉगिंग में दिए जा रहे विशेष योगदान के लिए सम्मानित किया गया-

(1) श्री श्रीश शर्मा (ई-पंडित), तकनीकी विशेषज्ञ, यमुनानगर (हरियाणा)
(2) श्री कनिष्क कश्यप, संचालक ब्लॉगप्रहरी, दिल्ली
(3) श्री शाहनवाज़ सिद्दिकी, तकनीकी संपादक, हमारीवाणी, दिल्ली
(4) श्री जय कुमार झा, सामाजिक जन चेतना को ब्लॉगिंग से जोड़ने वाले ब्लॉगर, दिल्ली
(5) श्री सिद्दार्थ शंकर त्रिपाठी, महात्मा गांधी हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा
(6) श्री अजय कुमार झा, मीडिया चर्चा से रूबरू कराने वाले ब्लॉगर, दिल्ली
(7) श्री रविन्द्र पुंज, तकनीकी विशेषज्ञ, यमुनानगर (हरियाणा)
(8) श्री रतन सिंह शेखावत, तकनीकी विशेषज्ञ, फरीदाबाद (हरियाणा )
(9) श्री गिरीश बिल्लौरे ‘मुकुल’, वेबकास्ट एवं पॉडकास्‍ट विशेषज्ञ, जबलपुर
(10) श्री पद्म सिंह, तकनीकी विशेषज्ञ, दिल्ली
(11) सुश्री गीताश्री, नारी विषयक लेखिका, दि‍ल्ली
(12) श्री बी एस पावला,ब्लॉग संरक्षक, भिलाई (म.प्र.)
(13) श्री अरविन्द श्रीवास्तव, समालोचना, मधेपुरा (बिहार)

................सभी सम्मानित ब्लॉगरों को बधाई !!

(चित्र में : वर्ष का श्रेष्ठ नन्हा ब्लॉगर के तहत बिटिया अक्षिता (पाखी) की तरफ से सम्मान ग्रहण करते उनके चाचू श्री अमित कुमार यादव, जो की 'युवा-मन' ब्लॉग के संयोजक भी हैं.पायलटों की हड़ताल के चलते ऐन वक़्त पर अंडमान से फ्लाईट कैंसिल हो जाने के चलते हम कार्यक्रम में शामिल न हो सके. अत: अक्षिता की तरफ से यह सम्मान उनके चाचू श्री अमित कुमार ने ग्रहण किया.)



(अन्य फोटोग्राफ का नजारा यहाँ लें)

50 टिप्‍पणियां:

Unknown ने कहा…

आकांक्षा जी,
इस ब्लागर्स सम्मलेन के बारे में सुना तो था, पर छिट-पुट रूप में ही जानकारियां मिल रही थीं. पर अपने एक गंभीर ब्लागर और विश्लेषक की तरह न सिर्फ इस सम्मलेन के बारे में जानकारी दी बल्कि सम्मानित होने वाले लोगों की सूची भी साथ में दे दी. एक ही लिंक पर सभी फोटो देखने के व्यवस्था भी लाजवाब लगी. सार्थक और सटीक विश्लेषण के लिए आभार.

Unknown ने कहा…

जानकर दुःख हुआ कि पायलटों की हड़ताल के चलते फ्लाइट कैंसिल हो जाने के चलते आप कार्यक्रम में न पहुँच सकी. खैर, बिटिया पाखी को सम्मान प्राप्त होने पर बधाई.

Unknown ने कहा…

यदि आप इजाजत दें तो इस पोस्ट को 'शब्द-साहित्य' पर साभार प्रकाशित करना चाहूँगा.

Dr. Brajesh Swaroop ने कहा…

सही कहा अपने आजकल ब्लागिंग की महत्ता काफी बढ़ गई है. ऐसे आयोजन अच्छी भूमिका निभाते हैं.

Dr. Brajesh Swaroop ने कहा…

अक्षिता (पाखी) को बेस्ट बेबी ब्लागर अवार्ड मिला, जानकर प्रसन्नता हुई. अब तो मिठाई भी मिलनी चाहिए.

raghav ने कहा…

ब्लागिंग आज एक विधा बनाने की तरफ अग्रसर है. आपकी यह पोस्ट काफी जानकारियां भी देती है. अच्छा लगा यहाँ आकर.

raghav ने कहा…

ब्लागिंग आज एक विधा बनाने की तरफ अग्रसर है. आपकी यह पोस्ट काफी जानकारियां भी देती है. अच्छा लगा यहाँ आकर.

raghav ने कहा…

ब्लागिंग आज एक विधा बनाने की तरफ अग्रसर है. आपकी यह पोस्ट काफी जानकारियां भी देती है. अच्छा लगा यहाँ आकर.

raghav ने कहा…

ब्लागिंग आज एक विधा बनाने की तरफ अग्रसर है. आपकी यह पोस्ट काफी जानकारियां भी देती है. अच्छा लगा यहाँ आकर.

raghav ने कहा…

ब्लागिंग आज एक विधा बनाने की तरफ अग्रसर है. आपकी यह पोस्ट काफी जानकारियां भी देती है. अच्छा लगा यहाँ आकर.

raghav ने कहा…

iTS MATTER OF pROUD THAT lITTLE BABY pAKHI GOT SUCH NICE aWARD..CONGTS.

Bhanwar Singh ने कहा…

बहुत अच्छी विवेचना.

Bhanwar Singh ने कहा…

पाखी को बधाई. हमारी भी मिठाई ड्यू हो गई.

Bhanwar Singh ने कहा…

पाखी को बधाई. हमारी भी मिठाई ड्यू हो गई.

Satish Saxena ने कहा…

वाह वाह !
अक्षिता को बधाई !

अजय कुमार झा ने कहा…

पाखी को बहुत बहुत बधाई और आपको भी इस सारगर्भित और जानकारीपूर्ण पोस्ट के लिए आपने सचमुच ही सारांश रख दिया सामने । बहुत बहुत शुक्रिया और आभार

Gyan Darpan ने कहा…

पाखी को बहुत बहुत बधाई :)

Ram Shiv Murti Yadav ने कहा…

बैठे-बैठे हमने भी इस कार्यक्रम की सैर कर ली. अच्छे कार्यक्रम के सम्बन्ध में उत्कृष्ट रिपोर्ताज..बधाई.

Ram Shiv Murti Yadav ने कहा…

दादा और दादी जी की तरफ से भी इस उपलब्धि पर पाखी को ढेर सारी बधाइयाँ और प्यार भरी आशीष.

Kailash Sharma ने कहा…

बहुत सुन्दर रिपोर्ट और विश्लेषण..

कविता रावत ने कहा…

बहुत अच्छी सार्थक रिपोर्ट और विश्लेषण के लिए आभार.

hamarivani ने कहा…

ji mai bhi vaper tha....

रमेश कुमार जैन उर्फ़ निर्भीक ने कहा…

हम भी इस अवसर पर गए थें, कुछ फोटो भी लिए और काफी ब्लोगरों से मुलाकात का अवसर मिला. कार्यक्रम में जब पाखी का नाम पुकारा गया था और उसके बारें में विवरण बताया गया था. तब सबकी नजरें पाखी और सिर्फ पाखी को देखना चाहती थीं. अफ़सोस पाखी पहुँच नहीं सकी. लेकिन कोई बात नहीं, फिर कभी.....सही. पाखी को बेस्ट बेबी ब्लागर अवार्ड के लिए बहुत-२ बधाई हो. आगे भी बहुत सारे अवार्ड पाखी को मिले. इन्ही कामनाओं के साथ...........

Randhir Singh Suman ने कहा…

nice

shikha varshney ने कहा…

Bahut bahut badhai.

girish pankaj ने कहा…

badhaaiyaan.....

महेन्‍द्र वर्मा ने कहा…

सभी सम्मानित जनों को बहुत-बहुत बधाइयां और शुभकामनाएं।

राज भाटिय़ा ने कहा…

सभी सम्मानित ब्लॉगरों को बधाई

DR. ANWER JAMAL ने कहा…

जानकर राहत मिली कि पायलटों की हड़ताल के चलते फ्लाइट कैंसिल हो जाने के चलते आप कार्यक्रम में न पहुँच सकी. खैर, बिटिया पाखी को सम्मान प्राप्त होने पर बधाई.

आप अपने क़लम की हत्या किस कुसूर के बदले कर रहे हैं ?

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

पाखी को बहुत बहुत बधाई।

निर्मला कपिला ने कहा…

अकां़अ जी आपको बहुत बहुत बधाई।

जयकृष्ण राय तुषार ने कहा…

आकांक्षा जी पाखी बिटिया को मेरी बधाई और शुभकामनाएं |

जयकृष्ण राय तुषार ने कहा…

आकांक्षा जी पाखी बिटिया को मेरी बधाई और शुभकामनाएं |

पूनम श्रीवास्तव ने कहा…

akanxha ji
is sammelan ke bare me charcha to kafi dino se ho rahi thi.
par pata nahi chal paya tha ki hamaare kitne blogars bandhu usme sammanit hue .
aapka vistrit lekh padhkar puri jankaari mili .sarv pratham to us nanhi pari pakhi ki is samman ke liye bahut bahutsneh v hardik shubh -kamnaaye.
aur bhi jitne log sammanit hue hai jika naam vistaar se likhna thoda kathin hoga unko bhi is samman ke liye hardik badhai v shubh kamnaaye
vaise agar saal me ek baar bhi aise ayojan hote rahenge to vo din dur nahi jab hindi bloging apni parakashtha ko chhone me safal hoga.
is ayojan ki sampuran jaankari dene ke liye aapko bhi bahut baht badhu
dhanyvaad sahit
poonam

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

पाखी को बहुत बहुत बधाई .....


कार्यक्रम की सार्थक रिपोर्ट

दिगम्बर नासवा ने कहा…

आपका विश्लेषण गंभीर और विश्लेषण तक ही रहा जो अच्छा लगा ...

रमेश कुमार जैन उर्फ़ निर्भीक ने कहा…

श्रीमान जी, मैंने अपने अनुभवों के आधार ""आज सभी हिंदी ब्लॉगर भाई यह शपथ लें"" हिंदी लिपि पर एक पोस्ट लिखी है. मुझे उम्मीद आप अपने सभी दोस्तों के साथ मेरे ब्लॉग www.rksirfiraa.blogspot.com पर टिप्पणी करने एक बार जरुर आयेंगे. ऐसा मेरा विश्वास है.

Kajal Kumar's Cartoons काजल कुमार के कार्टून ने कहा…

एक संतुलित रपट.

पंकज मिश्रा ने कहा…

अक्षिता को बधाई। लेकिन ये बताइए मुझे किसी श्रेणी में पुरस्कार नहीं मिला तो क्या हुआ, बुलाया भी नहीं। इस लायक भी नहीं समझा। भई गलत बात है। खैर उम्मीद करता हूं आगे से ध्यान रखा जाएगा।

सु-मन (Suman Kapoor) ने कहा…

sabhi blogers ko bahut bahut badhai....

रमेश कुमार जैन उर्फ़ निर्भीक ने कहा…

श्रीमान जी, क्या आप हिंदी से प्रेम करते हैं? तब एक बार जरुर आये. मैंने अपने अनुभवों के आधार ""आज सभी हिंदी ब्लॉगर भाई यह शपथ लें"" हिंदी लिपि पर एक पोस्ट लिखी है. मुझे उम्मीद आप अपने सभी दोस्तों के साथ मेरे ब्लॉग www.rksirfiraa.blogspot.com पर टिप्पणी करने एक बार जरुर आयेंगे. ऐसा मेरा विश्वास है.

श्रीमान जी, हिंदी के प्रचार-प्रसार हेतु सुझाव :-आप भी अपने ब्लोगों पर "अपने ब्लॉग में हिंदी में लिखने वाला विजेट" लगाए. मैंने भी कल ही लगाये है. इससे हिंदी प्रेमियों को सुविधा और लाभ होगा.

Shahroz ने कहा…

आपकी इस एक अदद पोस्ट ने सारा सार ही सामने रख दिया..मुबारकवाद आपकी लेखनी को.

Shahroz ने कहा…

वाह पाखी के तो जलवे हैं. आखिर सबकी लाडली ब्लागर जो हैं.मुबारकवाद.

Shyama ने कहा…

बेहतरीन कार्यक्रम...बेहतरीन रिपोर्ट..आभार.

Shyama ने कहा…

इसे कहते हैं पूत के पांव पालने में. नन्हीं अक्षिता को बधाई. यूँ ही तरक्की करो आप.

Shyama ने कहा…

के.के. जी और आकांक्षा जी ने बिटिया पाखी को जो संस्कार और परिवेश दिया है, वाकई अनुकरणीय है. उन्हें श्रद्धावत नमन. .

डॉ. मनोज मिश्र ने कहा…

अक्षिता को बधाई !

Urmi ने कहा…

सभी सम्मानित ब्लॉगरों को हार्दिक बधाइयाँ! बहुत सुन्दरता से आपने प्रस्तुत किया है!

Bhanwar Singh ने कहा…

वस्तुत: यह दुनिया विचारों की दुनिया है और सभी ब्लागर्स की कोशिश होनी चाहिए कि विचार शून्य में नहीं, बल्कि आम आदमी से जुड़कर आगे आएं।
..sahi kaha.

Bhanwar Singh ने कहा…

वाकई यह विलक्षण उपलब्धि है. अक्षिता को ढेरों बधाई.