आपका समर्थन, हमारी शक्ति

शुक्रवार, 5 नवंबर 2010

दीपोत्सव और लक्ष्मी-गणेश की पूजा परंपरा


दीपावली को दीपों का पर्व कहा जाता है और इस दिन ऐश्वर्य की देवी माँ लक्ष्मी एवं विवेक के देवता व विध्नहर्ता भगवान गणेश की पूजा की जाती है। ऐसा माना जाता है कि दीपावली मूलतः यक्षों का उत्सव है। दीपावली की रात्रि को यक्ष अपने राजा कुबेर के साथ हास-विलास में बिताते व अपनी यक्षिणियों के साथ आमोद-प्रमोद करते। दीपावली पर रंग-बिरंगी आतिशबाजी, लजीज पकवान एवं मनोरंजन के जो विविध कार्यक्रम होते हैं, वे यक्षों की ही देन हैं। सभ्यता के विकास के साथ यह त्यौहार मानवीय हो गया और धन के देवता कुबेर की बजाय धन की देवी लक्ष्मी की इस अवसर पर पूजा होने लगी, क्योंकि कुबेर जी की मान्यता सिर्फ यक्ष जातियों में थी पर लक्ष्मी जी की देव तथा मानव जातियों में। कई जगहों पर अभी भी दीपावली के दिन लक्ष्मी पूजा के साथ-साथ कुबेर की भी पूजा होती है। गणेश जी को दीपावली पूजा में मंचासीन करने में शैव-सम्प्रदाय का काफी योगदान है। ऋद्धि-सिद्धि के दाता के रूप में उन्होंने गणेश जी को प्रतिष्ठित किया। यदि तार्किक आधार पर देखें तो कुबेर जी मात्र धन के अधिपति हैं जबकि गणेश जी संपूर्ण ऋद्धि-सिद्धि के दाता माने जाते हैं। इसी प्रकार लक्ष्मी जी मात्र धन की स्वामिनी नहीं वरन् ऐश्वर्य एवं सुख-समृद्धि की भी स्वामिनी मानी जाती हैं। अतः कालांतर में लक्ष्मी-गणेश का संबध लक्ष्मी-कुबेर की बजाय अधिक निकट प्रतीत होने लगा। दीपावली के साथ लक्ष्मी पूजन के जुड़ने का कारण लक्ष्मी और विष्णु जी का इसी दिन विवाह सम्पन्न होना भी माना गया हैै।

ऐसा नहीं है कि दीपावली का सम्बन्ध सिर्फ हिन्दुओं से ही रहा है वरन् दीपावली के दिन ही भगवान महावीर के निर्वाण प्राप्ति के चलते जैन समाज दीपावली को निर्वाण दिवस के रूप में मनाता है तो सिक्खों के प्रसिद्ध स्वर्ण मंदिर की स्थापना एवं गुरू हरगोविंद सिंह की रिहाई दीपावली के दिन होने के कारण इसका महत्व सिक्खों के लिए भी बढ़ जाता है। स्वामी रामकृष्ण परमहंस को आज ही के दिन माँ काली ने दर्शन दिए थे, अतः इस दिन बंगाली समाज में काली पूजा का विधान है। यह महत्वपूर्ण है कि दशहरा-दीपावली के दौरान पूर्वी भारत के क्षेत्रों में जहाँ देवी के रौद्र रूपों को पूजा जाता है, वहीं उत्तरी व दक्षिण भारत में देवी के सौम्य रूपों अर्थात लक्ष्मी, सरस्वती व दुर्गा माँ की पूजा की जाती है।

23 टिप्‍पणियां:

Udan Tashtari ने कहा…

जानकारी भरा आलेख!!



सुख औ’ समृद्धि आपके अंगना झिलमिलाएँ,
दीपक अमन के चारों दिशाओं में जगमगाएँ
खुशियाँ आपके द्वार पर आकर खुशी मनाएँ..
दीपावली पर्व की आपको ढेरों मंगलकामनाएँ!

-समीर लाल 'समीर

समयचक्र ने कहा…

बढ़िया जानकारी
शुभ दीपावली.... दीपावली की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं.....

Bharat Bhushan ने कहा…

मेरे लिए कुछ जानकारी नई है. आभार और दीपावली की शुभकामनाएँ.

अजय कुमार ने कहा…

प्रदूषण मुक्त दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें

अजय कुमार ने कहा…

प्रदूषण मुक्त दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें

उपेन्द्र नाथ ने कहा…

अच्छी जानकारी. . दीपावली के शुभ अवसर पर आपको सपरिवार हार्दिक शुभकामनायें

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

ज्ञानवर्द्धक लेख ....

दीपावली की शुभकामनायें

KK Yadav ने कहा…

दीवाली के पावन पर्व पर सुन्दर प्रस्तुति...दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें !!

KK Yadav ने कहा…

The setting sun asked, ''who will take care of the night?'' A small burning lamp said, '' I shall try my best." May, we be that innocent earthen lamp !, to say Tamso Ma Jyotirgamaya bcoz however deep may be darkness it can not put out the light of a humble candle...wishing u all a Very-Very Happy Diwali !!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

बहुत सुन्दर!
--
प्रेम से करना "गजानन-लक्ष्मी" आराधना।
आज होनी चाहिए "माँ शारदे" की साधना।।

अपने मन में इक दिया नन्हा जलाना ज्ञान का।
उर से सारा तम हटाना, आज सब अज्ञान का।।

आप खुशियों से धरा को जगमगाएँ!
दीप-उत्सव पर बहुत शुभ-कामनाएँ!!

मनोज कुमार ने कहा…

अति उत्तम।

चिरागों से चिरागों में रोशनी भर दो,
हरेक के जीवन में हंसी-ख़ुशी भर दो।
अबके दीवाली पर हो रौशन जहां सारा
प्रेम-सद्भाव से सबकी ज़िन्दगी भर दो॥
दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई!
सादर,
मनोज कुमार

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

सुन्दर आलेख। दीवाली की हार्दिक शुभकामनायें।

राज भाटिय़ा ने कहा…

दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं

संगीता पुरी ने कहा…

दीपावली का ये पावन त्‍यौहार,
जीवन में लाए खुशियां अपार।
लक्ष्‍मी जी विराजें आपके द्वार,
शुभकामनाएं हमारी करें स्‍वीकार।।

Kailash Sharma ने कहा…

बहुत ज्ञानवर्धक प्रस्तुति..दीपावली की हार्दिक शुभ कामनायें

जयकृष्ण राय तुषार ने कहा…

सुन्दर आलेख ।ज्योति पर्व दीपावली की शुभकामनाएँ॥

Unknown ने कहा…

दीवाली से जुडी परम्पराओं के बारे में बहुत सुन्दर और ज्ञानवर्धक जानकारी..आभार.

Unknown ने कहा…

दीपावली का ये पावन त्‍यौहार,
जीवन में लाए खुशियां अपार।
लक्ष्‍मी जी विराजें आपके द्वार,
शुभकामनाएं हमारी करें स्‍वीकार।।

Ram Shiv Murti Yadav ने कहा…

ज्योति पर्व के अवसर पर आप सभी को ''यदुकुल'' की तरफ से हार्दिक शुभकामनाएं।!!

Amit Kumar Yadav ने कहा…

***दीपवाली दीपों का त्यौहार है . दीप की "लौ" हमेशा ऊपर की ओर ही उठती है, हम कर्म और धर्म में ऊपर ही उठें और अन्यों को भी उठायें . "लौ " अपने को जला कर दूसरों को प्रकाश देती है, हमें भी निस्वार्थ होकर दूसरों के जीवन को प्रेमोल्लास से प्रकाशित करना है . प्रेमोल्लास की दीप मालाएं सर्वत्र एक साथ जल उठने से हमेशा हमेशा के लिए अन्धकार हमसे और हमारे समाज से दूर हो ऐसी शुभकामनाओं के साथ दीपावली पर्व पर मंगलकामनाएं ***

Bhanwar Singh ने कहा…

๑۩۞۩๑ HAPPY DIWALI ! ๑۩۞۩๑
"Look Outside IT's Pleasant
LIGHTS Smiling For U
CANDLES Dancing For U
FAIRIES Waiting For U
Because I Ask Them 2 Wish U"
๑۩۞۩๑ HAPPY DIWALI ! ๑۩۞۩

Sunil Kumar ने कहा…

ज्ञानवर्द्धक लेख, दीपावली की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं.....

Urmi ने कहा…

आपको और आपके परिवार को दिवाली की हार्दिक शुभकामनायें !