आपका समर्थन, हमारी शक्ति

शनिवार, 17 अगस्त 2013

प्याज की महंगाई ...आँखें भर आईं

कभी प्याज काटने पर आँखों में आंसू आ जाते थे, पर अब प्याज की महंगाई लोगों की आँखों में आंसू ला रही है। कभी गरीब आदमी तेल-प्याज-नमक के साथ रोटी खाकर अपनी भूख मिटा लिया करता था, पर अब तो लगता है प्याज 'स्टेटस सिम्बल' बन गई है। प्याज की महँगाई को लेकर किसी की यह कल्पना देखिए-


एक टिप्पणी भेजें