आपका समर्थन, हमारी शक्ति

शुक्रवार, 11 फ़रवरी 2011

प्रिया आ...


वेलेण्टाइन डे का असर अभी से दिखने लगा है. चारों तरफ प्यार की धूम मची है. अब तो यह पूरा व्यवसाय हो गया है. हर कोई इसे अपने ढंग से यादगार बनाना चाह रहा है. फ़िलहाल प्यार की इस फिजा में वसंत के अहसास के बीच वेलेण्टाइन डे पर अथर्ववेद में समाहित दो प्रेम गीतों का हिन्दी अनुवाद प्रस्तुत है-


प्रिया आमत दूर जा
लिपट मेरी देह से
लता लतरती ज्यों पेड़ से
मेरे तन के तने पर
तू आ टिक जा
अंक लगा मुझे
कभी न दूर जा
पंछी के पंख कतर
ज़मीं पर उतार लाते ज्यों
छेदन करता मैं तेरे दिल का
प्रिया आ, मत दूर जा।
धरती और अंबर को
सूरज ढक लेता ज्यों
तुझे अपनी बीज भूमि बना
आच्छादित कर लूंगा तुरंत
प्रिया आ, मन में छा
कभी न दूर जा
आ प्रिया!


हे अश्विन!
ज्यों घोड़ा दौड़ता आता
प्रिया-चित्त आए मेरी
ओर
ज्यों घुड़सवार कस
लगाम
रखता अश्व वश में
रहे तेरा मन
मेरे वश में
करे अनुकरण सर्वदा
मैं खींचता तेरा चित्त
ज्यों राजअश्व खींचता
घुड़सवार
अथित करूं तेरा हृदय
आंधी में भ्रमित तिनके जैसा
कोमल स्पर्श से कर
उबटन तन पर
मधुर औषधियों से
जो बना
थाम लूं मैं हाथ
भाग्य का कस के।

- आकांक्षा यादव

23 टिप्‍पणियां:

सुरेन्द्र सिंह " झंझट " ने कहा…

आकांक्षा जी ,
अथर्व वेद से लिए दोनों प्रेम गीतों का भावानुवाद बहुत ही सुन्दर और ह्रदयश्पर्सी है |
बहुत-२ शुभकामना !

कविता रावत ने कहा…

वेलेण्टाइन डे का दिन निकट आने पर आपने अथर्ववेद में समाहित दो प्रेम गीतों का हिन्दी अनुवाद कर हम तक पहुँचाया इसके लिए आभार .... बहुत सुन्दर प्रस्तुति लगी.

POOJA... ने कहा…

वाह...
इन अनुवादों को पढ़ लगता है की हमारे यहाँ हमेशा ही १४ फरवरी होती है...

ajit gupta ने कहा…

हमारे यहाँ तो प्रेमगीतों का भण्‍डार है। आपने अथर्ववेद के दो गीत देकर बहुत अच्‍छा किया। आभार।

वन्दना ने कहा…

इन अनुवादों को पढ़ लगता है कि हमारे यहाँ हमेशा ही १४ फरवरी होती है ये बाहर की परम्परा ही नही है हमारी भी धरोहर है …………चलिये जो हो मगर इस बहाने इतनी सुन्दर रचनाये तो पढने को मिल गयीं।

Patali-The-Village ने कहा…

दोनों प्रेम गीतों का भावानुवाद बहुत ही सुन्दर और ह्रदयश्पर्सी है|

Udan Tashtari ने कहा…

सुन्दर--अद्भुत!! बहुत उम्दा भावानुवाद!

डॉ. मनोज मिश्र ने कहा…

बहुत सुंदर प्रस्तुति.

"पलाश" ने कहा…

आपने बहुत सुन्दर और सधी हुयी रचना लिखी । बहुत सुन्दर

babanpandey ने कहा…

bahut hi sunder...
love is god.....

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

दोनों का अर्थ और अनुवाद, अति सुन्दर।

Sunil Kumar ने कहा…

दोनों प्रेम गीतों का भावानुवाद बहुत ही सुन्दर ....

DR. PAWAN K MISHRA ने कहा…

मधुर भाव
आभार इतनी सुन्दर पंक्तियों के लिए

OM KASHYAP ने कहा…

आकांक्षा जी ,
बहुत सुन्दर प्रस्तुति
बहुत-२ शुभकामना !
आभार ....

सुमन'मीत' ने कहा…

प्रेम रस में डूबी रचनाएं......बहुत सुन्दर...

Manav Mehta ने कहा…

bahut sundar rachnayen

उपेन्द्र ' उपेन ' ने कहा…

बहुत ही सुन्दर और दिल को छू लेने वाली प्रस्तुति......

smshindi By Sonu ने कहा…

वाह...

बहुत सुंदर इसको दूसरी वार पढ़वाने के लिए शुक्रिया
आपके ब्लोग पर आकर अच्छा लगा।

smshindi By Sonu ने कहा…

मेरी नई पोस्ट पर आपका स्वागत है

"हट जाओ वेलेण्टाइन डेे आ रहा है!".

KK Yadava ने कहा…

In bhavanuvadon ko jitni bar bhi padhiye, man nahin bharta.khubsurat prastuti ke liye badhai !!

Akshita (Pakhi) ने कहा…

वेलेण्टाइन डे पर बहुत सुन्दर रचना... ममा को ढेर सारा प्यार और बधाई.

Amit Kumar ने कहा…

बहुत सुन्दर गीत ..पढ़कर आनंद आ गया. हमारी संस्कृति प्रेम से भरपूर है.

vidhya ने कहा…

bahut kub
लिकं हैhttp://sarapyar.blogspot.com/
अगर आपको love everbody का यह प्रयास पसंद आया हो, तो कृपया फॉलोअर बन कर हमारा उत्साह अवश्य बढ़ाएँ।